dating women from latin america latina family woman art mexican girls dating armenian men 34d natural breasts latin american women having sex women twitter cum tribute latina most popular havana cuba dating sites best new mexico lesbian dating sites latin women vs white women

मैथिली कविता

सत्रह बरख क उदयीमान कवि नचिकेता क संपादकत्व मे प्रगतिशील त्रैमासिक “मैथिली कविता” क प्रथम अंक अप्रैल १९६८ में प्रकाशित भेल छल। एहि पत्रिका क प्रकाशक छलाह आधुनिक मैथिली क आरम्भिक काल क महत्वपूर्ण महिला साहित्यकार, कवयित्री इला रानी सिंह। मैथिली भाषा मे नवचेतना क अग्रदूत मैथिली कविता क निरन्तर छह गोट अंक प्रकाशित भेल, आ एहि मे तत्कालीन सभ कवि क योगदान छल।  भारतीय सरकार क RNI रजिस्टर्ड (R.N.I. Regn No. 16549/67) एहि पत्रिका क अन्तिम अंक जुलाइ १९६९ मे प्रकाशित भेल।
सम्पादक नचिकेता क प्रथम अंक मे प्रकाशित सम्पादकीय, ‘दृष्टिपात’, एवं प्रकाशक इला रानी सिंह क शुभकामना संदेश सँ पथ-प्रदर्शक मैथिली कविता क उद्देश्य क जानकारी भेंटत।
+++
मैथिली कविता, वर्ष १ – अंक १; अप्रैल १९६८; दृष्टिपात (सम्पादकीय) पृ. ३१-३२
दृष्टिपात :-
रासत्मबोध सँ वंचित, विवेक और बुद्धियहु सँ विरहित, कवि-कर्म क दुरूहता सँ विमुक्त, फोकटिया यशक लिप्सा सँ अभिभूत, राष्ट्र-धर्म-संस्कृतिक विरोध कें कर्तव्य बुझनिहार, कुंठा, नपुंसकता, हीनता और संत्रास सँ निपीड़ित नव-रूढ़ि-जाल मे आबद्ध हैवाक प्रेमी एवं संकीर्ण सम्प्रदाय मे अन्तर्भुक्त तथाकथित साहित्यकार लोकनि क द्वारा नव-लेखन क नाम पर होमैवला व्यभिचार आई असह्य  भ’ गेल अछि। नवीनता क नाम पर पश्चिम क विकृति क अनुकरण और दुर्द्रव्यक सम्मिश्रण कैने क्यो बड़ जोर ‘अकवि’ भ’ सकैछ, कवि’ नहि।  नव कवि लोकनि कें सब वस्तु सँ विरोध छन्हि। पुरान नामहि सँ ई लोकनि तहिना भड़कैत छथि जेना कारी छत्ता सँ महींस। धर्म पूरान भा’ गेल छैक। तैं हिनका पसिन नहि। सामाजिक व्यवस्था पुरान भ’ गेल छैक। तैं हिनका वर्त्तमान समाज-व्यवस्था पसिन नहि। राष्ट्रीयता क नारा पुरान भ’ गेल छैक। तैं आब राष्ट्र-विरोध क नारा हिनका नीक लगैत छन्हि। अपन देश मे पसरल दुःख, दरिद्रता, अविद्या और कुरीति कें दूर करबाक लेल ई लोकनि शिव संकल्प नहि क’ सकैत छथि, कियैक त हिनका लोकनि क अन्त:करण विश्व-चेतना सँ उद्भभावित हैत रहैत छन्हि। चीनी साम्राज्यवादी  क गोली सँ बिद्ध तथा पद-दलित अपन भाई-बंधुक लहास हिनक ह्रदय विदीर्ण नहि  कैलकन्हि , किन्तु वियतनाम क गोली कांड सँ ई आई अश्रु-मोचन क रहल छथि। भारतवर्ष  में रहितहु बैशाख-जेठ क प्रचंड उत्तापहु मे ई लोकनि साइबेरिया निवासी सब जकाँ हू-हू  हू-हू क’ कए शीत सँ थर-थर काँपवाक स्वांग भरताह , कियैक त विश्व-चेतना सँ अनुप्राणित जे छथि ! अपन पास-पड़ोसिक क्रन्दन कें और निराशा कें बुझवाक हिनका पलखति नहि छन्हि, हुनका लोकनि कें सहयोग देबाक वा समाज क नव-निर्माण करवाक हिनका अवकाश नहि छन्हि, अपन माटि-पानिक दिसि निहारबाक हिनका दरकार नहि छन्हि, कियैक  त ताहि सँ विश्व-चेतना सँ अनुप्राणित हैवाक कोन प्रमाण भेंटतन्हि ? ई सत्य जे आजुक युग मे क्यो विश्व-भरि क घटना चक्र सँ अप्रभावित नहि रहि सकैत आ’ ने आयास-पूर्वक अप्रभावित रहबाक चाही, किन्तु इहो सत्य जे जकरा अपना घर, अपन समाज वा अपन देश क विभीषिका अनुप्रेरित नहीं क’ सकलैक से केवल आनहिक दयनीयता सँ प्रभावित हैवाक स्वांग करैत त ओ भयानक दम्भी और मिथ्याचारी (फ्रॉड) मानल जायत।
एहन विभ्रान्त कवि लोकनि क दू लक्षण विशेष उल्लेखनीय अछि। एक त ई अपने कें त्रिकाल मे सबसँ पैघ मानैत छथि — हिनाकाँ दृष्टियें बाल्मीकि, कालिदास, विद्यापति, तुलसी, सूर, चन्दा झा, सुमन, मधुप, किरण, सीताराम झा, आदि त कवि छाथिये नहि, ‘असल कविता’ त आई ई नव कवि लोकनि लिखी रहलाह अछि। नव कवि लोकनि क दोसर विशेषता ई छन्हि जे ई सब अपन सम्प्रदाय क चिट्ठा पर हस्ताक्षर कैनिहार और अपनहि साँचा मे ढलल शब्द-जाल मात्र कें कविता मानैत छथि, आन सब किछु कें फूसि-कासी। नेतृत्व क लोभें एहि दल मे कतेक बुढ़कौवो लोकनि कृत्रिम पंख लगा कए आबि गेल छथि। आजुक ई स्थिति विशेष विचारक अपेक्षा रखैत अछि।
आइ “मथिली कविता” पर बड़ पैघ दायित्व छैक। कवि लोकनि बड़ क्रान्त द्रष्टा हैत छथि। तैं हुनका लोकनि क ई पवित्र कर्तव्य छन्हि जे सशक्त स्वर मे ओ समाज क पथ निर्देश करथु और मैथिली साहित्य क गौरव-वर्द्धन करथु।
जनिका प्रतिभा छन्हि ओ कुहेलिका क अंधजाल क माया कें त्यागी दथु। पश्चिम क अनुकरण नहि क’ कए अपन धरती क माटि-पानि, अपन धरती क आशा-निराशा, अपन धरती क जीवन-संघर्ष दिसि ध्यान दथु। एहि प्रसंगे यात्री जी क ई कविता स्मरणीय आछि –
“— अवचेतन-मध्य
रहताह ठाढ़ मनुपुत्र, दिगम्बर
 ने जानि कत्तेक काल
पश्चिमाभिमुख।”
+++
आइ-काल्हि साहित्यांगन मे बहुत चलैत-फिरैत शव देखल जाईत अछि। ओ सब जन्म लेबाक साथे एहि लेल अपन माय-बाप कें गारि पाडैत छथि कियैक ओ सब एहि उद्देश्य-विहीन पृथ्वी पर हुनका सब कें जन्म देलन्हि। हम एहि पृथ्वी पर एलहुँ। जन्म लेलहुँ मिथिलाक माटि-पानी में। ताहि लेल हम अपना कें धन्य बुझैत छी।
समाज में अव्यवस्था अछि सुधारबाक लेल। जिनगी क टेढ़-घोंच, जटिल रास्ता मे दिशा बनाब’ पड़त। लड्डू लेल जिद्द ध’ कए नहि पैबाक व्यथता पर जीवन क देवाल ठाढ़ केनाई कापुरुषक काज थिक। जीवन क व्यर्थताक चित्रण मनुष्य क रीढ़ क हड्डी कें तोडि देत अछि। तोड़’ सब कें अबैत अछि, बना कें सकैत अछि ? हर्षक विषय जे “मैथिली कविता” बानैबाक कार्य-सूची हाथ मे नेने अछि; तोड़बाक नहि। हम ह्रदय सँ एकर समृद्धि आ’ दीर्घायु क लेल कामना करैत छी।
-प्रो० इला रानी सिंह, प्रकाशक, मैथिली कविता
[मैथिली कविता, वर्ष १ – अंक २; जुलाइ १९६८; शुभकामना, पृ. ६]

kavita